Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Modern History Of India In Hindi|आधुनिक भारत का इतिहास

Modern History Of India आधुनिक भारत का इतिहास

परीक्षाओ की दृष्टि से भारत के इतिहास का जानकारी रखना अति महत्वपूर्ण है,क्यूंकि इस विषय से सम्बंधित प्रश्न लगभग सभी परीक्षाओ में पूछे जाते है.

भारत का इतिहास तीन भागो में है.1.प्राचीन भारत का इतिहास 2.मध्यभारत का इतिहास और 3.आधुनिक भारत का इतिहास(मॉडर्न हिस्ट्री ऑफ़ इंडिया) इस Article में हम आधुनिक भारत के इतिहास की जानकारी प्राप्त करेंगे.

modern history of india in hindi

 

 

1.बंगाल का विभाजन (1905 AD)-

  • 19 जुलाई 1905 को लार्ड कर्ज़न भारत आये.
  • 16 अक्टूबर 1905 को बंगाल को दो भागो में बांटा गया.
  • एक भाग वेस्ट बंगाल बना जिसकी राजधानी कलकत्ता बनी.और दूसरा भाग ईस्ट बंगाल बना जिसकी राजधानी देक्का(Decca) बना.
  • बंगाल के विभाजन के विरोध में विदेशी वस्तुओ का बहिष्कार किया गया.

2.असहयोग आन्दोलन (1921 AD)-

  • यह गाँधी जी का प्रथम जनआन्दोलन था.
  • उस वक्त के viceroy लार्ड चेम्सफोर्ड(chelmsford) थे.

असहयोग आन्दोलन की मुख्य मांगे –

  1. Rowlatt एक्ट को रद्द करो.
  2. जलियांवाला बाग पीड़ितो को न्याय.
  3. खिलाफत आन्दोलनकारियों को न्याय.
  4. भारत के लिए स्वराज्य.
  • वित्तयी सहायता के लिए तिलक फण्ड बनाया गया.
  • गाँधी जी ने केसरी हिन्द की उपाधि त्याग दिया.
  • चरखा और खादी भारत का राष्ट्रीय प्रतिक बना.

आन्दोलन के विरोध में कांग्रेस को त्यागने वाले-

  1. विपिन चन्द्र पाल
  2. ऐनी बिसेंट
  3. मोहम्मद अली जिन्ना

चौरी-चौरा कांड(5 फरवरी 1922)

  1. 2000 की भीड़ शराब के दुकान के पास धरना प्रदर्शन के लिए गए.
  2. जिसमे से 3 लोगो को अंग्रेज पुलिस वालो ने मार दिया उसके बाद गुस्साए भीड़ ने 23 पुलिस वालो को जिन्दा जला दिया.
  3. इस कांड के बाद असहयोग आन्दोलन बंद हुआ.
  4. इस कांड के समय lord रीडिंग भारत के viceroy थे.

3.साइमन कमीसन(3 फरवरी 1927-28) –

  • Sir जॉन साइमन इसके प्रमुख थे.
  • संवैधानिक गतिविधियों को सुधारने के लिए भारत भेजा गया.
  • 7 सदस्य आये थे जो यूनाइटेड किंगडम के parliament सदस्य थे.
  • इसे white कमीशन भी कहा गया क्योंकि इसमें कोई भी भारतीय नहीं था.
  • साइमन कमीसन के खिलाफ लाहौर में एक आन्दोलन रखा गया जिसका नेतृत्व लाला लाजपत राय ने किया.इस आन्दोलन में लाठी चार्ज में चोटिल हो जाने से ही लाला लाजपत राय मारे गये.

4.हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन(1928)-

  • वर्ष 1928 से पहले इसे हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन नाम से जाना जाता था.
  • इसके सदस्य चंद्रशेखर आजाद,भगत सिंह,सुखदेव,बटुकेश्वर दत्ता और राजगुरु थे.
  • इसे गरम दल भी कहते है.

लाहौर षडयंत्र केस(17 दिसम्बर 1928)

  • A.S.P. J.P. Saunders को 1 दिसम्बर 1928 को सुखदेव,राजगुरु,और भगत सिंह ने मारा.

केन्द्रीय विधायी (Legislative) सभा बम केस(8 अप्रैल 1929)

  • बटुकेश्वर दत्ता और भगत सिंह ने सभा (असेंबली) में दो बम लगाये.
  • बाद में इन दोनो को arrest किया गया.
  • और 23 मार्च 1931 को सुखदेव,राजगुरु और भगत सिंह को फांसी हुई.

 

5.सविनय अवज्ञा आन्दोलन (1930)-

  • यह गाँधी जी का दूसरा जनआन्दोलन था.
  • इसका प्रमुख कारण गाँधी जी का 11 सूत्रीय मांगो को lord इरविन द्वारा नहीं मानना था.
  • इसे “कर नहीं” आन्दोलन भी कहा जाता है.
  • इसे वर्ष 1931 में गाँधी-इरविन समझौते के द्वारा ख़त्म कर दिया गया.
  • इस आन्दोलन के समय ही गाँधी जी ने 12 मार्च 1930 में दांडी मार्च किया.यह यात्रा लगभग 390 K.M. की थी.

6.गाँधी-इरविन समझौता –

  • यह समझौता 5 मार्च 1931 को किया गया.

शर्ते जो गाँधी जी ने मानी-

  1. सविनय अवज्ञा आन्दोलन बंद किया गया.
  2. कांग्रेस दुसरे गोलमेज सम्मलेन में भाग लेगा.
  3. आन्दोलन के द्वारान अंग्रेजो द्वारा भारतीयों पर किए गये अत्याचार पर कोई जाँच आयोग नहीं बनाया जायेगा.

शर्ते जो lord इरविन ने मानी-

  1. नमक कानून हटेगा.
  2. कांग्रेसीयो की जप्त संपतिया वापस दिया जाएगा.
  3. महिलाओ को शराब और अफिम के दुकानों के सामने शांति पूर्ण ढंग से धरना प्रदर्शन की इजाजत दिया गया.
  4. हिंसा में लिप्त दोषियों को छोड़कर शेष सभी भारतीय बंदियों को रिहा कर दिया जायेगा.

7.गोलमेज सम्मेलन-

  • कांग्रेस ने केवल दुसरे गोलमेज सम्मेलन में भाग लिए.
  • डॉ. बी.आर. अम्बेडकर एकलौते नेता थे जिन्होंने तीनो गोलमेज सम्मेलनों में भाग लिया.

प्रथम गोलमेज सम्मेलन(12 नवम्बर 1930)-

  1. जगह-सैंट जेम्स पैलेस लन्दन
  2. प्रधानमंत्री-Ramsay mcdonald थे.
  3. इसमें 89 सदस्यों ने भाग लिए.

पार्टी-

  1. हिन्दू महासभा-जयकर और मुंजे.
  2. मुस्लिम लीग-मोहम्मद अली जिन्हा और आभा खान
  3. सिख समिति-सरदार सम्पूर्ण सिंह
  4. दलित वर्ग-डॉ.बी आर अम्बेडकर

द्वितीय गोलमेज सम्मेलन (7 सितम्बर 1931)

  • इस सम्मेलन में कांग्रेस ने भाग लिया.
  • सरोजनी नायडू ने भारतीय महिलाओ का प्रतिनिधित्व किया.
  • यह मीटिंग असफल रही,कारण बी आर अम्बेडकर और गाँधी जी के बीच दलित वर्गों को पृथक निर्वाचन को लेकर विवाद.

तृतीय गोलमेज सम्मेलन

  • यह सम्मेलन 17 नवम्बर 1932 को रखा गया था.

8.Mcdonald अवार्ड(1932)-

  • इसे ब्रिटिश प्रधानमंत्री Ramsay Mcdonald ने भारत में दलित वर्ग को अलग से निर्वाचन देने के लिए भेजा था.

9.पूना समझौता(24 सितम्बर 1932)-

  • यह समझौता गाँधी जी और बी.आर अम्बेडकर के बीच mcdonald अवार्ड को अस्वीकार करने के लिए किया गया समझौता था.
  • Mcdonald अवार्ड के विरोध में गाँधी जी ने “यरवदा” जेल पुणे में अनसन रखा,यह गाँधी जी का सबसे लम्बा अनसन था.

मध्यस्थ के नाम

  1. मदनमोहन मालवी
  2. राजेंद्र प्रसाद
  3. पुरुषोत्तम दास टंडन

 

10.अगस्त प्रस्ताव(8 अगस्त 1940)-

  • वाइसराय लिनलिथगो(Linlithgow) ने दुसरे विश्व युद्ध में भारत का सहयोग पाने के लिए अगस्त प्रस्ताव लाया.
  • इसे कांग्रेस और मुस्लिम संघ ने इसे ठुकरा दिया.

11.व्यक्तिगत सत्याग्रह (17 अक्टूबर 1940)-

  • इसका मुख्य कारण अगस्त प्रस्ताव था.
  • इसके पहले सत्याग्रही आचार्य विनोबा भावे जी थे.
  • दुसरे जवाहरलाल लाल नेहरु थे.
  • यह गाँधी जी के सत्याग्रह पर अधारित था.

12.क्रिप्स मिशंस(23 मार्च 1942)-

  • स्टैफ़ोर्ड क्रिप्स की अध्यक्षता में लाया गया था.
  • भारतीयों का सहयोग पाने के लिए लाया गया था.
  • गाँधी जी ने इसे “a post dated cheque” कहा.
  • इसे कांग्रेस और मुस्लिम संघ दोनों ने इसे ठुकरा दिया.

13.भारत छोड़ो आन्दोलन(9 अगस्त 1942)-

  • इसे अगस्त क्रांति और वर्धा प्रस्ताव भी कहते है.
  • गाँधी जी का अंतिम जन आन्दोलन था.
  • गाँधी जी ने यह आन्दोलन बॉम्बे के गोवालिया टैंक मैदान से आरंभ किया.
  • उस समय गाँधी जी का नारा था,”करो या मरो“.

14.कैबिनेट मिशन(24 मार्च 1946)-

  • भारत की पूर्णस्वाधीन्ता की मांग को मानते हुए,ब्रिटिश कैबिनेट ने भारत में ब्रिटिश कैबिनेट मिशन भारत भेजा.
  • इस समय इंग्लैंड के प्रधानमंत्री clement attlee थे.
  • इस समय भारत के वाइसराय Archibald wavell थे.

इस मिशन का उद्देश्य-

  1. भारत में संघ बनाना.
  2. भारत में अंतरिम सरकार बनाना.
  3. संविधान निर्माता सभा का निर्माण करना.
  4. मुस्लिम संघ ने बस इसे ठुकराया.

कैबिनेट मिशन के सदस्य-

  1. लार्ड palthick lawrence.
  2. sir stafford क्रिप्स.
  3. A.V. alexender.

15.Attlee Declaration(अत्त्ली का घोषणा)(20 फरवरी 1947)-

  • ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने ब्रिटेन के संसद में घोषणा किया की भारत को 30 जून 1948 से पहले पूर्ण रूप से अजादी दे दी जाएगी.
  • लार्ड wavell को हटा के लार्ड mountbatten को भारत का वाइसराय बना के भारत भेजा गया.

16.Mountbatten Plan(3 जून 1947)-

  • भारत को दो भागो में बांटा गया,पाकिस्तान और हिंदुस्तान.
  • रेडक्लिफ आयोग का गठन किया गया.
  • 15 अगस्त 1947 को भारत का विभाजन पूरा हुआ.
  • इसके साथ ही भारत अजाद हुआ.

(इस नोट्स का PDF मात्र 12 रूपए में खरीदने के लिए यहाँ Click करे)

 

ऐ भी पढ़े-

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.