Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Important Acts Of British India In Hindi

ब्रिटिश इंडियन  रूल के समय भारत में बहुत सारे Important Acts आए,जिन्होंने भारत में हुकूमत चलाने में अंग्रेजो का बहुत ज्यादा मदद किया.इन acts से ही भारत में बहुत सारे बदलाओ आये और भारत के विकास में भी सहायक हुआ.

आज हम इस नोट्स के माध्यम से उन सभी acts के बारे में जानेंगे जो हमारे विभिन्न तरह के परीक्षा के लिये उपयोगी है.

important british indian acts

1.Regulating Act 1773 (रेग्युलेटिंग एक्ट)

  • Governer Of बंगाल का नाम Governer General Of बंगाल कर दिया गया.
  • 1774 को इसके द्वारा कोलकाता में सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना की गई.
  • ईस्ट इंडिया कंपनी में काम करने वालो को घुस और उपहार लेने में प्रतिबन्ध था.

2.Pits India Act 1784(पिट्स इंडिया एक्ट)

  • Court Of Director (Commercial) – इसे व्यापार करने के लिए लाया गया.
  • Board Of Control (प्रशासन) – राजनैतिक मामलो के लिए इसे लाया गया.
  • गवर्नर जनरल के परिषद् की सदस्यों की संख्या 4 से 3 कर दिया गया जिससे गवर्नर जनरल की कार्यक्षमता और शक्तियों में इजाफा हुआ.

3.Charter Act 1813(चार्टर एक्ट)

  • भारत में शिक्षा के प्रचार के लिए 1 लाख रुपया दिया गया.
  • इसाई धर्म के प्रचार प्रसार के लिए भारत जाने की अनुमति मिली.
  • ईस्ट इंडिया कंपनी की व्यापारिक गतिविधियाँ को चाय और चीन के साथ एकाधिकार सिमित कर दिया गया.

4.Charter Act 1833(चार्टर एक्ट)

  • भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी की सभी व्यापारिक गतिविधियाँ बंद कर दी गई अब ये केवल प्रशासनिक इकाई थी.
  • विलियम बेंटिक भारत के पहले गवर्नर जनरल बने.
  • गवर्नर जनरल के परिषद् में एक कानून सदस्य की नियुक्ति की गई.

5.Charter Act 1853(चार्टर एक्ट)

  • गवर्नर जनरल के कार्यकारी परिषद को विधायिका और कार्यपालिका में विभाजित कर दिया गया.
  • भारत में नागरिक सेवा के लिए खुली प्रतियोगिता परीक्षा की शुरुवात किया गया.

6.Government Of India Act 1858 (गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया)

  • भारत में शासन करने का अधिकार ईस्ट इंडिया से हस्तांतरित कर दिया गया.
  • एक पंद्रह भारतीय परिषद बनायी गई जिसके अध्यक्ष भारत के सचिव कहलाए.
  • भारत के गवर्नर जनरल का नाम बदल कर भारत का Viceroy कर दिया गया.

7.Indian Councile Act 1861(इंडियन काउंसिल)

  • भारत में विकेन्द्रीकरण की शुरुवात हुई.
  • Portfolio System विभागों का बटवारा हुआ.
  • Viceroy को अध्यादेश जारी करने की शक्ति मिली.

8.Indian Councile Act 1892(इंडियन काउंसिल)

  • विधायी परिषद् को बजट पर चर्चा करने की शक्ति दी गई.

9.Indian Councile Act 1909

  • इसे मोर्ले-मिन्टो सुधार भी कहा जाता है.
  • मुस्लिम वर्ग के लिए अलग से निर्वाचन क्षेत्र लाया गया.
  • विधायी परिषद् के लिए चुनाव की प्रक्रिया चालू हुई.

10.Montague-Chelmsford 1919

  • इसे Government Of India एक्ट भी कहते है.
  • इसके तहत रियासतों में वैध्द शासन लाया गया.
  • भारत में द्विसदनीय प्रणाली प्रारंभ हुई.
  • कार्यकारी परिषद् में भारतीयों कि संख्या 1 से 3 कर दिया गया.
  • सम्प्रदायिक प्रतिनिधित्व प्रणाली को भारत में सिख वर्ग, भारतीय,इसाई ,अंग्लो-भारतीय और यूरोपियो के लिए विस्तारित कर दिया गया.
  • केन्द्रीय लोकसेवा आयोग का गठन कर दिया गया.

11.Government Of India 1935 (गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया)

  • अखिल भारतीय संघ का निर्माण किया गया.
  • शक्तियों का विभाजन किया गया और प्रशासन की विशिष्ट शक्ति को केंद्र,राज्य और समवर्ती में बाट दिया गया.
  • राज्यों में द्विशासन हटा कर केंद्र में लागु कर दिया गया.
  • इसके द्वारा RBI,राज्य PSC और सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना की गई.

 

ऐ भी पढ़े-

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.